Neeraj chopra biography in hindi -Age,net worth, rewards and career

नीरज चोपड़ा भारत के जेवलिन थ्रो जिसे हिंदी मे भाला फेंक के प्रतिनिधि है। जिन्होंने हाल ही मे हुए टोक्यो ऑलंपिक 2021 में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए अपने लिए फाइनल में जगह बनाई और 87.5 मीटर दूर फेंका जिसे और कोई प्रतिस्पर्धी भेद नहीं पाया और स्वर्ण पदक जीतकर आए अपना एवं भारत देश का नाम विश्व स्तर पर अपना एवं भारत देश का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज करा लिया। neeraj chopra biography in hindi

मिल्खा सिंह की आखरी इच्छा थी कि “भारत से कोई लड़का या लड़की आगे आए जो एथलीट में गोल्ड मेडल प्राप्त करे और भारत देश का राष्टगान और भारत का झंडा ऑलंपिक खेलों में लहराए” यही मिल्खा सिंह की आखरी इच्छा थी लेकिन दुर्भाग्यवश मिल्खा सिंह का निधन गोल्ड मेडल मिलने से पहले ही हो गया।

13 वर्षा बाद नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलिंपिक में 7 अगस्त 2021 को गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। नीरज चोपड़ा के टोक्यो ऑलंपिक में इतने अच्छे प्रदर्शन को देखकर नीरज को आर्मी में शामिल कर लिया गया। चलिए जानते है इनके जीवन के बारे में neeraj chopra biography in hindi

Neeraj chopra biography in hindi
Neeraj chopra biography in hindi

general information (neeraj chopra biography in hindi)

नाम (name)नीरज चोपड़ा
जन्म (birth)24 दिसंबर 1997
जन्म स्थल (place of birth)पानीपत,हरियाणा
उपनाम (nickname)निज्जू
राशि (zodiac sig)मकर राशि
पिता (father)सतीश कुमार
माता (mother)सरोज देवी
कॉलेज (college)डिएवी कॉलेज चंडीगढ़
शिक्षा (education)BA graduate
राष्ट्रीयता (nationality)भारतीय
कोच (cotch)उवे होन
धर्म और जाति (religion and caste)रोर मराठा, हिन्दू
पेशा (profession)जेवलिन थ्रो एथलीट
वैवाहिक स्थिति (marital status)अविवाहित
neeraj chopra biography in hindi

नीरज चोपड़ा का शुरुआती जीवन और शिक्षा (Neeraj Chopra’s Early Life and Education)

जेवलिन थ्रो गोल्ड मेडल लिस्ट नीरज चोपड़ा का जन्म 24 दिसंबर 1997 के दिन भारत देश के राज्य हरियाणा के पानीपत नामांक शहर मे एक किसान परिवार में हुआ था। नीरज के पिता का नाम सतीश कुमार है जोकि पानीपत के छोटे गाऊँ खंडरा में किसान है और नीरज चोपड़ा की माता का नाम सरोज देवी है जो एक गृहिणी है। नीरज चोपड़ा की दो बहने भी है। नीरज के टोटल 5 भाई और बहन है,जिसमें नीरज सब से बड़े है।

नीरज चोपड़ा ने अपनी प्राथमिक शिक्षा हरियाणा की स्कूल से ही पूरी की थी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नीरज चोपड़ा स्नातक है। अपनी प्राथमिक पढ़ाई खत्म होने के बाद नीरज चोपड़ा ने अपना दाखिला बीबीए कॉलेज में किया था और यही कॉलेज से नीरज चोपड़ा ने स्नातक की डिग्री प्राप्त की थी।

नीरज चोपड़ा खेल और कठिनाइयां(Neeraj Chopra Game and Difficulties)

नीरज चोपड़ा को बचपन से ही खेलों में काफी दिलचस्पी थी,खेलों में उनकी अधिक रुचि के कारण उन्होंने ओलंपिक में स्वर्ण पदक प्राप्त करने का सपना देखा। जो ओलंपिक खेलों में हासिल किया गया था। नीरज चोपड़ा ने टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने 2021 के ओलिंपिक खेलों में गोल्ड मेडल जीतकर नया इतिहास रच दिया है।

यह गोल्ड मेडल उनकी लगातार मेहनत का नतीजा है। जिसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की है और सालों से लगातार इंतजार किया है। नीरज चोपड़ा ने अपने जीवन में खेलों को बहुत महत्व दिया। खेलों को अधिक महत्व देने के कारण वे अपने जीवन में निरंतर सफलता प्राप्त करते रहे हैं। इन सफलताओं को हासिल करने के लिए उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था और अपने जीवन में काफी संघर्ष करने के बाद उन्हें यह गोल्ड मेडल मिला है। उनकी लगातार सफलताओं को देखकर दुनिया भर के लोग उनके बारे में जानना चाहते हैं।

नीरज चोपड़ा ने तोक्यो ओलिंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर न सिर्फ इतिहास रचा है, बल्कि कई साल पुराने रिकॉर्ड भी तोड़े हैं. उनका जीवन कठिनाइयों से भरा है कि कोई भी उनके जीवन की कहानी को जानकर प्रेरणा ले सकता है। नीरज चोपड़ा वर्तमान में भारतीय सेना में सूबेदार के पद पर कार्यरत हैं। जिसे लोग अक्सर मोगली के नाम से जानते हैं। नीरज चोपड़ा ने महज 23 साल की उम्र में टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल जीतकर दुनिया भर में अपने देश का नाम रोशन किया है।

नीरज चोपड़ा के कोच (Neeraj Chopra’s coach)

नीरज चोपड़ा के ओलिंपिक के मुख्य कोच का नाम जर्मनी के पूर्व पेशेवर भाला एथलीट उवे होन है, हालांकि नीरज चोपड़ा के पूर्व कोच का नाम गैरी कैल्वर्ट था, जिनकी 2018 में बीजिंग में दिल का दौरा पड़ने की वजह से मृत्यु हो गई थी। उवे होन से ही कोचिंग लेकर नीरज चोपड़ा टोक्यो ऑलंपिक में स्वर्ण पदक जीत पाए हैं।

नीरज चोपड़ा का भाला फेंक करियर (Neeraj Chopra’s Javelin Throwing Career)

11 साल की उम्र में नीरज का वजन 80 किलो था और वह वजन कम करने के लिए पानीपत स्टेडियम जाया करते थे। इसी दौरान उनकी मुलाकात जयवीर चौधरी से हो गई। 11 साल की उम्र से नीरज चोपड़ा की भाला में रुचि जय चौधरी के कारण थी क्योंकि वह पानीपत स्टेडियम में अभ्यास करते थे और नीरज उन्हें देखकर खेल के प्रति आकर्षित हो गए थे। जयवीर भाला एथलीट में हरियाणा का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

नीरज चोपड़ा ने पानीपत शहर में कोच जयवीर सिंह के नेतृत्व में भाला फेंक की कला सीखी। हालांकि, उत्कृष्टता की खोज में, चोपड़ा ने अपना आधार पंचकुला के ताऊ देवी लाल स्टेडियम में स्थानांतरित कर दिया।

यहीं पर भाला फेंक के कोच नसीम अहमद सुबह लंबी दूरी की दौड़ के साथ अपना प्रशिक्षण शुरू करेंगे और बाद में दिन में भाला फेंक अभ्यास के साथ इसका पालन करेंगे।

अहमद ने स्वीकार किया कि अन्य एथलीटों के विपरीत, नीरज चोपड़ा अनुशासित और अपने शिल्प के बारे में गंभीर थे और उन्होंने अपना खाली समय कम उम्र से ही इसे पूरा करने में बिताया।

अहमद ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “वह अपनी नोटबुक के साथ बैठता था और उनसे (सीनियर) टिप्स लेता था। वह कभी भी प्रशिक्षण से नहीं कतराता था और हमेशा ग्रुप के साथ हर राउंड जीतने का लक्ष्य रखता था।”

नीरज चोपड़ा रिकार्ड (neeraj chopra record)

● वर्ष 2012 में लखनऊ शहर मे भाला फेंक की प्रतियोगिता हुई थी, जिसमें अंडर 16 नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में नीरज चोपड़ा ने सबसे ज्यादा दूर 68.46 मीटर भले को फेंक कर गोल्ड मेडल प्राप्त किया था

● साल 2013 में हुए नेशनल यूथ चैंपियनशिप में नीरज चोपड़ा ने हिस्सा लेते हुए दूसरा स्थान हासिल किया और अपने शानदार खेल के चलते नीरज चोपड़ा ने अपनी जगह आईएएएफ वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में बनाई।

● साल 2015 में आयोजित हुई इंटर यूनिवर्सिटी चैंपियनशिप में नीरज चोपड़ा ने भाले को 81.04 मीटर दूर फेंक कर एज ग्रुप में नया रिकार्ड बनाकर अपना नाम शामिल किया।

● साल 2016 में हुए जूनियर विश्व चैंपियनशिप की प्रतियोगिता में नीरज चोपड़ा ने हिस्सा लिया और 86.48 मीटर दूर भाला फेंक कर नया इतिहास बनाया और स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

● साल 2016 में हुए दक्षिण एशियाई खेलों में नीरज चोपड़ा ने पहले ही राउंड में भाले को 82.23 मीटर दूर फेंक कर स्वर्ण पदक हासिल किया एवं नीरज चोपड़ा ने भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी की।

● साल 2018 में गोल्ड कोस्ट में आयोजित हुए कॉमनवेल्थ खेलों में नीरज हिस्सा लेते हुए भाले को 86.47 मीटर दूर फेंक कर एक और स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया।

● इसके अलावा साल 2018 में आयोजित जकार्ता एशियन गेम में भी नीरज चोपड़ा ने अपनी पूरी जान लगाकर भाले को 88.06 मीटर दूर फेंक कर भारत और अपना नाम गोल्ड मेडल जीतकर रोशन कर दिया।

नीरज चोपड़ा भौतिक अवस्था (neeraj chopra physical condition)

ऊंचाई (height)6.0 इंच
वजन (weight)86 किलोग्राम
आँखों का रंग (eye color)काला
बालों का रंग (hair color)काला
शारीरिक माप (body measurement)40-30-15
neeraj chopra biography in hindi

नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलंपिक 2020 (Neeraj Chopra Tokyo Olympics 2020)

जेवलिन थ्रो जिसका फाइनल मैच टोक्यो ओलिंपिक में 7 अगस्त को शाम 4:30 बजे आयोजित हुआ था। जेवलिन थ्रो के फाइनल में टोटल 6 राउंड थे जिसमें से नीरज चोपड़ा ने पहले 2 राउंड में 87.58 मीटर दूर भाला फेंका जिससे 4 राउंड में अन्य खिलाड़ियों में से कोई भेद नहीं पाया और नीरज की शानदार खेमेबाजी से उसे स्वर्ण पदक मिला। जिससे इतिहास के पन्नों में नीरज चोपड़ा ने अपना नाम दर्ज कर लिया।

भारत के नीरज चोपड़ा ने 7 अगस्त बुधवार को हुए टोक्यो ओलिंपिक में जेवलिन को 87.58 मीटर दूर फेंक कर कई रिकॉर्ड तोड़ दिए और भारत को अपना पहला ट्रेक एंड फ़ील्ड खेलों में पहला स्वर्ण पदक दिलवाया। विश्व स्तरीय जेवलिन थ्रो में नीरज चोपड़ा की विश्व रैंक 4 पोजीशन पर है।

नीरज चोपड़ा को मिले पुरूस्कार (Neeraj Chopra received rewards)

नीरज चोपड़ा ओलंपिक में व्यक्तिगत स्वर्ण जीतने वाले केवल दूसरे भारतीय और खेलों में ट्रैक-एंड-फील्ड पदक का दावा करने वाले देश के पहले भारतीय बने।

स्टार भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा के लिए नकद पुरस्कार डाले गए, जिन्होंने शनिवार को टोक्यो खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर भारत का पहला ट्रैक-एंड-फील्ड ओलंपिक पदक जीता।

चोपड़ा ने सनसनीखेज प्रदर्शन के साथ ओलंपिक इतिहास में भारत का दूसरा व्यक्तिगत स्वर्ण हासिल करने के बाद, हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर और अमरिंदर सिंह ने क्रमशः 6 करोड़ रुपये और 2 करोड़ रुपये के नकद पुरस्कार की घोषणा की।

बीसीसीआई ने यह भी घोषणा की कि चोपड़ा के लिए एक करोड़ रुपये आरक्षित किए गए हैं, जिन्होंने एथलेटिक्स की दुनिया को चौंका देने और ओलंपिक में ट्रैक और फील्ड पदक के लिए भारत के 100 साल के इंतजार को खत्म करने के लिए फाइनल में 87.58 मीटर का दूसरा दौर फेंका।

अन्य राज्य सरकारों, संगठनों और व्यक्तियों ने भी हरियाणा के 23 वर्षीय के लिए नकद पुरस्कार और भत्ते की पेशकश की है।

मणिपुर सरकार – 1 करोड़ रु
चेन्नई सुपर किंग्स – 1 करोड़ रुपये और ‘8758’ नंबर वाली विशेष जर्सी
BYJU’S – 2 करोड़ रु
इंडिगो – असीमित एक साल की मुफ्त यात्रा
गोफर्स्ट एयरवेज – पांच साल के लिए मुफ्त यात्रा
व्यवसायी आनंद महिंद्रा – एसयूवी XUV700

FAQ

नीरज चोपड़ा की उम्र कितनी है?

23 वर्ष

नीरज चोपड़ा कोन है?

भारतीय एथलीट खिलाड़ी

नीरज चोपड़ा की संपति कितनी है?

5 मिलियन डॉलर के आसपास

नीरज चोपड़ा कौनसा खेल खेलते है?

जेवलिन थ्रो (भाला फेंक)

Leave a Comment