उद्यम सिंह जीवनी, कहानि| Udham Singh Biography, Story, Death

शहीद उधम सिंह जोकि पंजाब के एक प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी हैं। जिन्होंने भारत के पंजाब में हुए जलियांवाला के पूर्व लेफ्टिनेंट गवर्नर माइकल ओ डायर की हत्या कर दी थी। साल 1919 को अमृतसर में उधम सिंह की आंख ने जलियांवाला बाग हत्याकांड देखा और ओ डायर की हत्या, उस कत्लेआम का बदला था। उधम सिंह को 31 जुलाई 1940 के दिन फांसी की सजा दी गई थी। हिरासत में रहते हुए उधम सिंह ने राम मोहम्मद सिंह आजाद नाम का इस्तेमाल किया था।

बॉलीवुड के प्रसिद्ध अभिनेता विक्की कौशल भारत के स्वतंत्रता सेनानी Udham Singh Biography पर आधारित फिल्म ‘सरदार उधम’ में नजर आएं है।

General Information (Udham Singh Biography)

जन्म नाम:-शेर सिंह
अन्य नाम:-मुहम्मद सिंह आजाद
नाम अर्जित:-शहीद ए आज़म उद्यम सिंह
जन्म तारीख:-28 दिसंबर 1899
जन्म स्थान:-सुनम, पंजाब
माता:-नारायण कौर
पिता:-तहल सिंह
अन्य भाई और बहन:-मुक्ता सिंह बाद में नाम साधु सिंह
गृहनगर:-सुनम, पंजाब
कार्य:-स्वतंत्रता सेनानी
प्रसिद्ध किस लिए:-जनरल माइकल ओ’डायर की हत्या के लिए
नागरिकता:-भारतीय
धर्म:-सिख
जाति:-कम्बोज सीख
मृत्यु तारीख:-31 जुलाई 1940
मृत्यु स्थान:-पेंटनविले जेल, लंदन
मृत्यु का कारण:-जनरल ओ’डायर की हत्या के लिए फांसी की सजा
उम्र:-41 वर्ष फांसी के समय
बायोपिक फिल्म:-“सरदार उद्यम सिंह”
उद्यम सिंह की पत्नी:- स्रोत 1. उधम सिंह ने मैक्सिकन महिला लुप से शादी की।
स्रोत 2. उधम सिंह ने कभी शादी नहीं की थी।
Udham Singh Biography

उधम सिंह जन्म और परिवार (Udham Singh Birth and Family)

उधम सिंह का जन्म शेर सिंह के रूप में गुरुवार के दिन 28 दिसंबर 1899 पंजाब के संगरूर जिले के सुनाम गाऊँ में हुआ था। उधम सिंह एक बेहद गरीब पंजाबी कम्बोज सिख परिवार से तालुक रखते थे। उधम सिंह के पिता का नाम तहल सिंह है। जो पंजाब के गांव उप्पली में एक रेलवे क्रॉसिंग पर रेलवे द्वारपाल के रूप में कार्य करते थे। उधम सिंह की माता का नाम नारायण कौर था। उधम सिंह का एक बड़ा भाई भी था जिसका नाम मुक्ता सिंह था। जो अनाथालय में एक साधु सिंह बन गया।

जलियांवाला बाग हत्याकांड (Jallianwala Bagh Massacre)

रविवार तारीख 13 अप्रैल 1919 का दिन था। लोग नए साल के आगमन का जश्न मनाने के लिए एक प्रमुख पंजाबी त्योहार जिसे बैसाखी कहा जाता है उसे मनाने के लिए पड़ोसी गांवों के हजारों लोग सामान्य उत्सवों और मौज-मस्ती के मेलों के लिए अमृतसर में एकत्र हुए थे। तब वंहा पशु मेला बंद होने के बाद चारों तरफ चारदीवारी से घिरे 6-7 एकड़ के सार्वजनिक उद्यान जलियांवाला बाग में कई लोग एक साथ जमा होने लगे।

इस डर से कि किसी भी समय एक बड़ा विद्रोह हो सकता था। कर्नल रेजिनाल्ड डायर ने पहले सभी बैठकों पर प्रतिबंध लगा दिया था। हालांकि यह बहुत कम संभावना थी कि आम जनता को प्रतिबंध के बारे में पता था। जलियांवाला बाग में सभा की बात सुनकर कर्नल डायर ने अपने सैनिकों के साथ मार्च किया और बाहर निकल ने का रास्ता बंद कर दिया। कर्नल डायर ने अपने आदमियों को पुरुष, महिला और बच्चों पर अंधाधुंध गोलियां चलाने का आदेश दे दिया।

दस मिनट कर्नल डायर के पागलपन में गोला बारूद समाप्त होने से पहले पूरी तरह से तबाही और नरसंहार हुआ था। आधिकारिक ब्रिटिश भारतीय स्रोतों के अनुसार 379 लोग मारे गए और 1100 लोग घायल हुए। लेकिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 1500 घायलों के साथ 1000 से अधिक लोगों की मृत्यु का अनुमान लगाया था। शुरुआत में ब्रिटिश साम्राज्य में रूढ़िवादियों द्वारा एक नायक के रूप में स्वागत किया गया था। ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स इस जलियांवाला बाग हत्याकांड की क्रूरता से भयभीत था और हैरी डायर को उनकी ड्यूटी से हटाकर उनकी तरक्की से गुजरने और उन्हें आगे के रोजगार से रोक कर गंभीर रूप से भारत में दंडित और अनुशासित किया गया था।

उस दुर्भाग्यपूर्ण जलियांवाला बाग हत्याकांड दिन से उधम सिंह बैसाखी उत्सव के लिए पड़ोसी गांवों से जलियांवाला बाग में एकत्रित लोगों की मंडली को पीने का पानी परोस रहे थे। कुछ रिपोर्टों के अनुसार रतन देवी के पति के शरीर को पुनः प्राप्त करने के प्रयासों में उधम सिंह भी इस घटना में घायल हो गए थे।

निर्दोष लोगों के चौंकाने वाले हत्याकांड ने युवा एवं प्रभावशाली ऊधम सिंह को अंग्रेजों के प्रति नफरत से भर दिया और उस दिन से उद्यम सिंह केवल मानवता के खिलाफ इस अपराध के लिए बदला लेने के तरीकों के बारे में सोचने लग गए थे।

क्रांतिकारी गतिविधियों में भागीदारी (Participation In Revolutionary Activities)

जलियांवाला बाग हत्याकांड से बुरी तरह आघात पहूंचा और अंग्रेजों के खिलाफ गुस्से से भरे हुए उधम सिंह जल्द ही स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई में शामिल हो गए। जो उस समय भारत और अन्य देशों दोनों में फैल रहा था। संयुक्त राज्य अमेरिका पहुंचने से पहले उद्यम सिंह ने साल 1920 के दशक की शुरुआत में एक मजदूर के रूप में काम करते हुए पूर्व अफ्रीका की यात्रा की और कुछ समय के लिए उधम सिंह ने डेट्रॉइट में फोर्ड के कारखाने में टूलमेकर के रूप में भी काम किया था। सैन फ्रांसिस्को में रहते हुए उधम सिंह ग़दर पार्टी के सदस्यों से मिले।

जिसमें अप्रवासी पंजाबी-सिख भी शामिल थे। जो भारत को अत्याचारी ब्रिटिश शासनकाल से मुक्त कराने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका से एक क्रांतिकारी आंदोलन चला रहे थे। अगले कुछ वर्षों के लिए उन्होंने शेर सिंह, उडे सिंह और फ्रैंक ब्राजील जैसे कई उपनामों को मानकर उनकी गतिविधियों के लिए समर्थन हासिल करने के लिए पूरे अमेरिका की यात्राएं की थी।

साल 1927 में भगत सिंह के निर्देशन का पालन करते हुए उद्यम सिंह भारत वापिस लौट आए। भारत मे वापिस उद्यम सिंह ने ग़दर पार्टी की कट्टरपंथी पत्रिका ग़दर-दी-गंज को प्रकाशित करने के लिए खुद को पूरा समर्पित कर दिया था। उद्यम सिंह को इस आरोप में और अवैध रूप से हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया और पांच साल कि जैल की सजा सुनाई गई थी। लेकिन उद्यम सिंह को 23अक्टूबर 1931 को चार साल जेल में बिताने के बाद जैल रिहा कर दिया गया।

जैल से लौटने के बाद उधम सिंह ने पाया कि साल 1927 में ब्रिगेडियर-जनरल डायर “द बुचर ऑफ अमृतसर” ब्रिटेन में स्ट्रोक की एक श्रृंखला से पीड़ित होने के बाद मर गया था और उनके साथी क्रांतिकारियों में भगत सिंह, राज गुरु और सुखदेव को भी साल 1928 में एक ब्रिटिश पुलिसकर्मी जॉन पी.सॉन्डर्स की हत्या करने के जुल्म में तीनों को 23 मार्च 1931 को फांसी दे दी गई थी।

इसके बाद उधम सिंह अपने गाँव लौट आए। लेकिन खुद को उद्यम सिंह ने ब्रिटिश पुलिस द्वारा लगातार निगरानी में पाया, क्योंकि उन्हें भगत सिंह और अन्य क्रांतिकारियों द्वारा स्थापित हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन के साथ बहुत करीबी संबंध रखने के लिए जाना जाता था। उद्यम सिंह ने मोहम्मद सिंह आज़ाद का नाम लिया और साइनबोर्ड के एक चित्रकार बन गए। जिसकी आड़ में उद्यम सिंह ने अपनी क्रांतिकारी गतिविधियों को जारी रखा और ओ’डायर जिसने जलियांवाला बाग हत्याकांड किया था उसको मारने के लिए लंदन की यात्रा करने की योजना बनाई।

उद्यम सिंह ने पहले कश्मीर की यात्रा की और फिर पुलिस को धोखा देकर जर्मनी देश मे भाग गये। वहां से उद्यम सिंह ने साल 1934 में इंग्लैंड पहुंचने से पहले इटली, फ्रांस, स्विटजरलैंड और ऑस्ट्रिया की यात्रा की थी। उद्यम सिंह ने 9 एडलर स्ट्रीट और व्हाइटचैपल में निवास किया और यहां तक ​​कि एक मोटर कार भी खरीदी। लंदन में रहते हुए उद्यम सिंह ने एक बढ़ई, साइनबोर्ड पेंटर, मोटर मैकेनिक और यहां तक ​​​​कि अलेक्जेंडर कोर्डा की कुछ फिल्मों में एक अतिरिक्त के रूप में भी काम किया। यह सब उस समय तक था जब वह माइकल ओ’डायर की हत्या करने के लिए रास्ते देख रहे थे।

माइकल ओ’डायर की हत्या (The murder of Michael O’Dwyer)

उधम सिंह को एक दिन पता चला कि माइकल ओ’डायर 13 मार्च 1940 को लंदन के कैक्सटन हॉल में सेंट्रल एशियन सोसाइटी और ईस्ट इंडिया एसोसिएशन की एक संयुक्त बैठक को संबोधित करने आयेंगे। उद्यम सिंह एक रिवॉल्वर खरीदने में कामयाब रहे और एक सिपाही से पब मे अपनी जैकेट की जेब में छुपाया और हॉल में प्रवेश कर लिया।

जैसे ही माइकल ओ’डायर का संबोधन समाप्त हुआ वंहा मंच के पास उद्यम सिंह पहुंचा और माइकल ओ’डायर पर गोलियों की बौछार कर दी। ओ’डायर पर उसने जो दो गोलियां चलाईं थी उनमें से एक डायर के दिल और दाहिने फेफड़े से होकर निकल गई। जिससे तुरंत ही माइकल ओ’डायर की मौत हो गई। उद्यम सिंह ने लॉर्ड जेटलैंड भारत के राज्य सचिव सर लुइस डेन और लॉर्ड लैमिंगटन को घायल करने में भी कामयाबी हासिल की थी।

उद्यम सिंह की मृत्यु (Udyam Singh Death)

डायर पर गोलियां चलाने के बाद उधम सिंह शांत रहे और वंहा से भागने या गिरफ्तारी का विरोध करने की कोशिश नहीं की थी। इसके बाद पुलिस कर्मचारियों ने उद्यम सिंह को अपनी हिरासत में ले लिया। ऐसा कहा जाता है कि सिंह ने अपनी हत्या के प्रयास के लिए एक सार्वजनिक स्थान चुना ताकि वह हंगामा कर सकें और भारत में अंग्रेजों द्वारा किए गए अत्याचारों की ओर ध्यान आकर्षित कर सकें।

माइकल ओ’डायर की हत्या करने के मुकदमे के दौरान उनके अदालती बयान मे न केवल बदला लेने के बारे में था बल्कि उपनिवेशवाद विरोधी क्रांतिकारी राजनीति से भी प्रेरित थे। उधम सिंह ने माइकल ओ’डायर की हत्या करने के पीछे का कारण बताते हुए यह बयान कोर्ट में दिया।

“मैंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि… वह [माइकल ओ’डायर] इसके हकदार था। वह … मेरे लोगों की आत्मा को कुचलना चाहता था। इसलिए मैंने उसे कुचल दिया है। पूरे 21 साल से मैं बदला लेने की कोशिश कर रहा हूं। मुझे खुशी है कि मैंने यह काम पूरा कर दिया है। मैं मौत से नहीं डरता। मैं अपने देश के लिए मर रहा हूं। मुझे मौत की सजा की परवाह नहीं है … मैं एक उद्देश्य के लिए मर रहा हूं … हम ब्रिटिश साम्राज्य से पीड़ित हैं … मुझे अपनी जन्मभूमि को मुक्त करने के लिए मरने पर गर्व है और मुझे आशा है कि जब मैं जाऊंगा … मेरी जगह पर हजारों आएंगे मेरे देशवासियों की ओर से कि तुम गंदे कुत्तों को भगाओ। मेरे देश को आजाद कराने के लिए…तुम भारत से साफ हो जाओगे और तुम्हारे ब्रिटिश साम्राज्यवाद को कुचल दिया जाएगा… मुझे अंग्रेजों के खिलाफ कुछ भी नहीं है…इंग्लैंड के मजदूरों के साथ मेरी बहुत सहानुभूति है। मैं साम्राज्यवादी सरकार के खिलाफ हूं। ब्रिटिश साम्राज्यवाद के साथ नीचे।”

उधम सिंह को माइकल ओ ड्वायर की गोली मारकर हत्या करने के जुल्म में दोषी ठहराया गया था और 31 जुलाई 1940 को उत्तरी लंदन के पेंटनविले जेल में उद्यम सिंह को फांसी दे दी गई थी।

FAQ

Q. उद्यम सिंह का जन्म कब हुआ था?

Ans. उद्यम सिंह का जन्म 26 दिसंबर 1899 को हुआ था।

Q. उद्यम सिंह कोन है?

Ans. उद्यम सिंह वहीं है जिन्होंने जलियांवाला बाग हत्याकांड करने वाले जनरल डायर को मार दिया था।

Q. उद्यम सिंह के जीवन पर कौनसी फिल्म है?

Ans. सरदार उद्यम सिंह

Q. उद्यम सिंह की मृत्यु किस दिन हुई थी?

Ans. 31 जुलाई, 1940

Q. उद्यम सिंह को कौनसी सजा सुनाई गई थी?

Ans. फांसी की सजा

Q. जनरल डायर को किसने मारा था?

Ans. उद्यम सिंह ने मारा था।

Leave a Comment