What Is Ecommerce | Ecommerce Kya hai & ई-कॉमर्स काम कैसे कर्ता है

ई-कॉमर्स क्या है, ई-कॉमर्स स्टोर काम कैसे कर्ता है (What Is Ecommerce, Ecommerce kya hai, Ecommerce kaam kaise karta hai, How Does Ecommerce Work, Ecommerce Website, Ecommerce Store)

नमस्ते मित्रों आज कल हममें से हर दूसरा और तिसरा इंसान ई-कॉमर्स साइट्स को इस्तेमाल करता है। हर इंसान को पता है की फ्लिपकार्ट, अमेजन, अलीबाबा, स्नैपडील, मिंत्रा सारे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म है। हम लोग अपने समय को बचाने के लिए और घर बैठे बैठे ज्यादा से ज्यादा वेरायटी का फायदा उठाने के लिए ई-कॉमर्स साइट या ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन क्या आप लोग जानते है What Is Ecommerce (ई-कॉमर्स क्या है) और How Does Ecommerce Work (ई-कॉमर्स काम कैसे कर्ता है) आज के इस लेख में हम Ecommerce Website और Ecommerce Store के बारे मे विस्तार से जानेंगे।

What Is Ecommerce (ई-कॉमर्स क्या है?)

दोस्तो ई-कॉमर्स को इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स के नाम से भी जाना जाता है। आसान भाषा में ऑनलाइन कंप्यूटर या मोबाइल पर कोई वस्तु या सेवा को खरीदना, बेचेना और एक्सचेंज करने की प्रवृति को इ-कॉमर्स के नाम से जाना जाता हैं। आज के दिनों में हर ब्रांड और बिजनेस के पास अपना खुद का ऑनलाइन स्टोर होता है। जहां पर कंपनी अपने यूजर या कस्टमर को प्रोडक्ट दिखाती है। यहां पर कंपनी लिस्टेड प्रोडक्ट के ऑर्डर लेती है और यूजर के अड्रेस पर भेज कर बिजनेस करती है। फ्लिपकार्ट, स्नैपडील, अमेजोन, ईबे, वूनिक, मिंत्रा, यह सब ई-कॉमर्स बिजनेस की बड़ी कंपनियां हैं। जिसने कम समय में काफी तगड़ी सफलता प्राप्त करी हैं।

ई-कॉमर्स कंपनिया अपने उपभोक्ताओं के लिए प्रोडक्ट की होम डिलीवरी एवं त्योहार पर भारी छूट, आसान एक्सचेंज और प्रोडक्ट के कई सारी वेरायटी जेसे फीचर के द्वारा कंपनी काफ़ी लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करती हैं। Ecommerce Store बड़े बड़े ब्रांड के प्रोडक्ट फ़ैक्टरी से सीधे क्लाइंट्स तक पहोचाने की सुविधा देती है जिसके कारण प्रोडक्ट की कीमत भी कम रहती हैं। आज के इस डिजिटल समय में जीवन जरूरीयात की लगभग हर चीज इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन ऑर्डर की जा सकती है और घर बैठे बैठे प्राप्त की जा सकती है। ई-कॉमर्स एक तेजी से बढ़ता हुआ फील्ड है। तो चले अब हम देखते हैं की ई-कॉमर्स क्या होती है वो भी पूरी डिटेल में।

ई-कॉमर्स बिजनेस मॉडल को समझिए (E-Commerce Business Model)

मान लीजिए आपने अपना ई-कॉमर्स का काम अभी शुरू किया। क्या आपको लगता है की छोटे से करोबार के लिए ई-कॉमर्स वेबसाइट बनाना चाहिए? तो इसका सीधा सा उत्तर है, बिल्कुल हां। आपको अपनी ई-कॉमर्स वेबसाइट बनाने के लिए आपको कुछ कुछ सवाल का पढ़े और जवाब सोचे..

  1. क्या आप ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं?
  2. आप अपना कितना टाइम इंटर्नेट का इस्तेमाल करते हैं?
  3. क्या आप ऑनलाइन सॉफ्टवेयर डाउनलोड करते हैं?
  4. क्या आप ऑनलाइन लेख पढ़ते हैं?

अगर इनमें से जदयातर सवाल के जवाब हां है, तो आप खुद ही सोचिए। जब आप इतना समय इन्टरनेट पर खर्च करते हैं, तो बाकी सब लोग भी करते ही होंगे। इसिलिए अपना बिजनेस चाहे छोटे लेवल पर हो, लेकिन उसका भविष्य हम बड़े लेवल पर देखते हैं और इसके लिए एक जरुरी चीज है और वो है Ecommerce Store या Website। इंटरनेट के थ्रू कॉमर्स (इन्टरनेट पर चीजें और सर्विस की लेन) ही ई-कॉमर्स है। आज के टाइम में ऐसी कोई फील्ड नहीं है जहां ई-कॉमर्स का इस्तेमाल न होता हो बात करे गारमेंट्स की या किचन अप्लायंसेज की बात हो एजुकेशन की या बुक्स ऑर्डर करने की, बात करो सोशल साइट्स पर रहने की या मेडिसिन मगवाने कि आज के समय में सबसे पहले हर दुसरा इंसान ऑनलाइन चेक करता है। ई-कॉमर्स का काम करने का अपना तरिका है। ये वो मार्केट है, जो किसी ने देखी नहीं, लेकिन बहुत कम टाइम में अपना पॉजिटिव रिजल्ट शो किया है।

पहले हम मार्केट में जाकर अपना समान लेते थे, जिसमें बहुत समय लगता था और वो समान भी थोड़ा महंगा पड़ता था क्योंकि उसमे ब्रोकर, कमीशन, होलसेलर, रिटेलर आदि के बाद हमारे पास पहंचता था। लेकिन अब एक वेबसाइट के थ्रू हम आसानी से सस्ता और अच्छी क्वालिटी का सामान मिलता है। ना मार्केट आने जाने की टेंशन, बस अपने फोन या लैपटॉप से ​​क्लिक किया और सामान हमारे घर पर पहूँच जाता है। ई-कॉमर्स का मुख्य उद्देश्य है दलाल, विज्ञापन, थोक विक्रेता आदि की लागत घटाकर, अपने उत्पाद को ग्राहक के लिए सस्ता बनाना। इसिलिए इस्का काम करने का तारिका भी अपना है।
ये तो था Ecommerce Business Model की जानकारी। अब हम ये जानते है की ई-कॉमर्स स्टोर बनाने के लिए हमें किस चीज की जरूरत होती है। या फिर ये की ई-कॉमर्स साइट विकसित करने के लिए हमारे पास क्या होना चाहिए।

ईकॉमर्स बिजनेस के लिए क्या क्या ज़रूरी है (What Is Required For Ecommerce Business)

Ecommerce Business के लिए ऑनलाइन पहचान बनानी जरुरी है आज के इस डिजिटल वर्ल्ड में अगर कोई भी काम किया जाए तो सबसे पहले, निवेश वेबसाइट में करना एक स्मार्ट विकल्प है। क्यूकी आज बात हो कपडो की या खिलौने की या पार्लर की या डॉक्टर की हम सबसे पहले ऑनलाइन सर्वोत्तम परिणाम चेक करते हैं। अगर आपका छोटा सा करोबार है, तो भी वेबसाइट बनाने से आपका काम और अच्छे से चलेगा। ऑनलाइन रजिस्टर करने के बेनिफिट्स आपको पता होने चाहिए।

विशेषज्ञों के अनुसार पूरी दुनिया में 250 मिलियन से भी ज्यादा लोग इंटरनेट का इस्तेमाल हर रोज करते हैं, अपने काम को आसन बनाने के लिए। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत दुनिया का तीसरा देश है जो सबसे ज्यादा इंटरनेट का इस्तेमाल करता हैं। हर व्यक्ति अपने 1 दिन में लगभग 10 घंटे रोजाना इंटरनेट पर खर्च करता है। बढ़ते इंटरनेट के इस्तेमाल के कारण ही ऑनलाइन बिजनेस की इम्पोर्टेंस बढ़ती जा रही है और आगे भी बढ़ती रहेगी तो हमको अपना कारोबार ऑनलाइन ले जाना होगा जिसके लिए हमको एक डोमेन नाम चाहिए। चलिए देखते है What Is Required For Ecommerce Business.

वेबसाइट के लिए डोमेन नाम रजिस्टर करें (Register Domain Name For Website)

ज्यादा बिजनेसमैन का मानना है की ऑनलाइन वेबसाइट होने का सबसे ज्यादा फायदा उनके ग्राहको को हो रहा है। आज उनको कोई भी जानकारी चाहिए तो उनको कहीं पर भी आने जाने की जरूरत नहीं है, वह घर बैठे ही इंटरनेट के माध्यम से सब प्रोडक्ट्स और सर्विसेज की जानकारी ले सकते हैं। अपने बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए वेबसाइट बनाना सबसे जरुरी है।

इसके लिए आपको डोमेन नाम रजिस्टर करना होगा। डोमेन नाम एक तरह से आपका ऑनलाइन पता है, जैसे हमारे घर का पता होता है। हमारे घर तक जाने जाते हैं। ऐसे ही इंटरनेट की दुनिया में अपना घर बनाने के लिए, अपना स्थायी पता जिसे हम डोमेन नाम कहते हैं वो रजिस्टर करना जरुरी है। डोमेन नाम सबसे अलग और विश्वासी होना चाहिए। ताकी लोगो का विश्वास बना रहे Amazon, Flipkart, Snapdeal भी एक तरह के डोमन ही है लेकिन उनके पहचान आज मार्केट में बहुत है।

Also Read:- Instagram Account Kaise Banaye

अपने बिजनेस के मुताबिक बनाए (Design According To Business)

डोमेन का काम इतना ही नहीं है की आपने डोमेन खरीद लिया और हो गया। अब आपको अपनी वेबसाइट को डिजाइन करना है। आपकी वेबसाइ आपके काम और डोमेन नाम के अनुसार डिजाइन होना चाहिए। आपकी वेबसाइट का डिज़ाइन आपके व्यवसाय पर निर्भर करता है, क्या आपकी वेबसाइट प्रोडक्ट को प्रमोट करती हैं? क्या आप खुद से प्रोडक्ट की बिक्री करते हैं? क्या आप कोई सेवा अपने ग्राहकों को देना चाहते हैं? इन सब छोटी छोटी बातों पर ध्यान दे और अपनी वेब साइट डिजाइन करवाए।

ईकॉमर्स वेबसाइट के कार्य और विशेषताएं (Ecommerce Website Functions And Features)

अपनी वेब साइट विकसित करने से पहले कुछ अच्छी वेबसाइट पर ध्यान दे की वो कैसी है, कैसे कैसे फंक्शन्स एवं फीचर है उसमे? कुछ वेबसाइट्स को देखने के बाद आपकी वेबसाइट को आप अच्छे से अच्छा बना सकते हैं और उसमे फंक्शन्स अपने बिजनेस के अनुसार लगवा सकते हैं। जिससे आपकी वेबसाइट और भी प्रीमियम लुक देगी और लोग ज्यादा आकर्षित होंगे जिससे आपके बिजनेस की बढ़ोतरी होगी।

ई-कॉमर्स के फायदे और नुकसान हिंदी में (Advantages And Disadvantages Of E-Commerce In Hindi)

दोस्तो किसी भी कार्य के दो पहलू होते है, जेसे एक सिक्के की 2 तरफ होती है वेसे ही Ecommerce में भी उसके दो पहलू है एक है Ecommerce से होने वाले नुकशान और Ecommerce Website से होने वाले फायदे या लाभ। इसलिए हम आपको ई-कॉमर्स से होने वाले लाभ और नुकशान के बारे मे भी बतायेंगे जिससे आप अपने बिजनेस के लिए निर्णय ले सके।

ई-कॉमर्स के फायदे (Advantages Of E-Commerce In Hindi)

दोस्तो ई-कॉमर्स स्टोर या ई-कॉमर्स बिजनेस के बहुत सारे लाभ है, जिसमें आप अपने बिजनेस के लिए वेबसाइट बनवा कर अपने कार्य का प्रचार कर सकते हैं, अपने ग्राहकों के लिए सर्विसेज और प्रोडक्ट्स की डिटेल्स के बारे में भी जानकारी दे सकते हैं। बड़ी बड़ी वेबसाइटें आज ऑनलाइन शॉपिंग मे ग्राहकों को अलग अलग तरह के विकल्प देता है, जैसेकि कैश ऑन डिलीवरी, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड आदि द्वारा भुगतान।

ई-कॉमर्स स्टोर अपने ग्राहकों की जरूरत के अनुसार सीधे कंपनी से ज्यादा मात्रा में प्रोडक्ट लेती है और अलग अलग सप्लायर्स और डिलीवरी कंपनियों के माध्यम से अपने हर ग्राहकों तक पहुंचती है। इतना ही नहीं, ग्राहको को अगर प्रोडक्ट पसंद ना आए तो वह कंपनी या वेबसाइट ग्राहकों को 100% रिटर्न पॉलिसी देती है। जिससे उनके ग्राहकों को उन पर भरोसा बना रहे। ऑनलाइन स्टोर में सबसे ज्यादा फायदा यह है कि आपका कोई ऑफिस नहीं होता, जहां आपका लैपटॉप और इन्टरनेट हो वही आपका ऑफिस होता है और इसी तरह जंहा उनके ग्राहक वहीं पर उनकी अपनी दुकान होती है।

ई-कॉमर्स के नुकशान (Disadvantage Of E-Commerce In Hindi)

ये जो सारे ई-कॉमर्स कंपनी है जैसे की अमेजन, ईबे, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील और पेटीएम ये सब कस्टमर्स को ध्यान में रख कर पॉलिसी बनाते हैं और ये सोचते हैं सेलर को अगर बिजनेस करना है तो वो वैसे ही हमारे प्लेटफॉर्म पर आएंगे। ई-कॉमर्स कॉमर्स कंपनियों में सबसे मुख्य लक्ष्य है खरीदार और खरीदार कैसे ज्यादा हमारी कंपनी से जुड़े यही सोच कर पुरा प्रोग्राम डिजाइन किया जाता है।

अगर स्टोर पर ज्यादा खरीदार है तो विक्रेता वैसे ही प्रोडक्ट बेचने के लिए सारी शर्तें मानकर आने वाले है। आप जो कोई भी ई कॉमर्स कंपनी मैं प्रोडक्ट बेचते हैं उनके नियम और विनियम पालन करेंगे और ये सब ई-कॉमर्स कंपनी में आप ने सब डेटा दिया होता है तो अगर आपको एक बार बिजनेस बंद कर दिया तो ई-कॉमर्स कंपनी फिर आपको अपनी वेबसाइट में बिजनेस नहीं करने देगी।

सबसे बड़ी समस्या ई-कॉमर्स बिजनेस में है प्रोडक्ट रिटर्न। ई-कॉमर्स कंपनियों के प्रोडक्ट रिटर्न को कैसे हैंडल करे वो सारी जिम्मेदारी सेलर के ऊपर रख दी जाती है और प्रोडक्ट रिटर्न एक ऐसी चीज है जिसे आप कंट्रोल नहीं कर सकते हैं। जैसे कि कई केस में खरीदार प्रोडक्ट ऑर्डर करेंगे और किसी वजह से फिर प्रोडक्ट वापिस कर देंगे। आपने जो प्रोडक्ट भेजा है उसकी जगह पर कोई और प्रोडक्ट भी भेजेंगे तो विक्रेता का ही नुक्सान हो जाएगा।

कई बार आपकी कूरियर कंपनियां अगर आइटम दीए हुए समय में विक्रेता को नहीं पहोचती या कोई भी खरीदार आपको नकारात्मक प्रतिक्रिया देता है तो इससे आपकी दुकान को ही नुक्सान होता है।

कई प्रोडक्ट श्रेणियां में आपको पहले प्रोडक्ट का कंपटीशन भी देखना होगा कि मैं जो प्रोडक्ट बेच रहा हूं वो प्रोडक्ट कितने दाम में लोगों के बीच रहे और अगर मैं उत्पाद बेचता हूँ तो मुझे उसमे से 30 से 40% मार्जिन मेनेजमेंट मे चला जाएगा। तो इस्को निकालकर कितना मुनाफा बचाता है? ये सब जानकारी पहले चेक करना बहुत जरूरी है क्योंकी प्रतियोगिता अभी ज्यादा है और आप को अच्छे मूल्य में उत्पाद स्रोत करना है।

तो अगर आप ये सब मैनेज कर सकते हैं तो आप को ई कॉमर्स बिजनेस में सक्सेसफुल होने से कोई नहीं रोक सकता।

ईकॉमर्स के बारे में अंतिम शब्द (Last Words About Ecommerce)

हम सबने कई बार अपनी लाइफ में सुना होगा, FIRST IMPRESSION IS LAST IMPRESSION. हमारी वेबसाइट हमारा फर्स्ट इंप्रेशन है, तो हमारा होम पेज ऐसा होना चाहिए जिससे लोग बार बार देखना या पढ़ना पसंद करें। एक अच्छे से डिज़ाइन की हुई वेबसाइट के थ्रू लोग आपके काम को भी बड़ा मानता है, ये वो विज्ञापन है जहां पर फर्स्ट इंप्रेशन बहुत जरूरी है। लेकिन ये भी महत्वपूर्ण है की सोच समझ कर वेबसाइट अगर बनवाई जाए तो आप काम बहुत अच्छा चलेगा, लेकिन अगर थोड़ी सी भी चुक हुई तो पूरी मेहनत पर पानी फिर जाएगा।

तो दोस्तों मुझे आशा है कि आपको यह लेख What Is Ecommerce अच्छा लगा होगा और समझ आया होगा की ई-कॉमर्स शुरू करने के लिए क्या क्या आवश्यकताएं होनी चाहिए। कैसे हम ज्यादा से ज्यादा लाभ हासिल कर सकते हैं।

FAQ

ई-कॉमर्स के 3 प्रकार कौन से हैं?

ई-कॉमर्स के मुख्य 3 प्रकार हैं। B2B बिजनेस-टू-बिजनेस (शोपिफाई जैसी वेबसाइटें), B2C बिजनेस-टू-कंज्यूमर (अमेजन जैसी वेबसाइटें) और C2C बिजनैस कंज्यूमर-टू-कंज्यूमर (ईबे जैसी वेबसाइट)।

क्या ई-कॉमर्स लाभदायक है?

हां, बिलकुल ई-कॉमर्स एक लाभदायक उद्योग है। ई-कॉमर्स कंपनी को सफलतापूर्वक शुरू करना एक मैराथन रेस है।

ई-कॉमर्स क्या है?

ई-कॉमर्स एक इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क, मुख्य रूप से इंटरनेट पर वस्तुओं और सेवाओं की खरीद और बिक्री, या धन या डेटा का संचारण है।

Ecommerce Full Form In Hindi

इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स

हमसे संपर्क करने के लिए हमे Facebook पर फॉलो करे या नीचे Comment करे हम आपके कमेन्ट का जवाब जरूर देंगे।

1 thought on “What Is Ecommerce | Ecommerce Kya hai & ई-कॉमर्स काम कैसे कर्ता है”

Leave a Comment