TRIPS Full Form in hindi | What does Trips Mean

TRIPS full form in hindi, Trips Full Form in english, what is trips Agreement, What is the purpose of the TRIPS Agreement, Requirement in TRIPS Agreement

ट्रिप्स का फुल फॉर्म Trade Related Aspects of Intellectual Property Rights है। जिसका हिंदी मै अर्थ है की – बौद्धिक संपदा अधिकारों के व्यापार संबंधी पहलू है। यह एक व्यापर श्रेणी मै आता है। इसको शार्ट नाम से जाना जाता है इसका इस्तेमाल छोटे शब्दों में किया जाता है इसका अर्थ बौद्धिक संपदा अधिकारों के व्यापार संबंधी पहलू है। यह एक व्यापार की श्रेणी में आता है यह W.T.O. द्वारा संचालित अंतरराष्ट्रीय संधि है विश्व व्यापार संगठन में किए गए समझौते में उनमें से एक है। समझौता बौद्धिक संपदा के अधिकारों की चर्चा करता है जैसे- पेटेंट, ट्रेडमार्क, कॉपीराइट, भौगोलिक संकेत, औद्योगिक डिजाइन जैसे आते है।

ट्रिप्स का फुल फॉर्म हिंदी में (TRIPS Full Form In Hindi)

TRIPS Full Form :- Trade Related Aspects of Intellectual Property Rights

TRIPS Full Form In Hindi :- बौद्धिक संपदा अधिकारों के व्यापार संबंधी पहलू।

ट्रिप्स समझौता क्या है? (What is TRIPS Agreement?)

बौद्धिक संपदा अधिकार के पहलुओं से संबंधित व्यापार पर समझौते (TRIPS) एक है अंतरराष्ट्रीय कानूनी समझौते के सभी सदस्य देशों के बीच विश्व व्यापार संगठन (WTO) है। यह अन्य डब्ल्यूटीओ सदस्य देशों के नागरिकों के लिए भी लागू है। जो भी देश इस TRIPS से जुड़े है वे उसके सदस्य है। बौद्धिक संपदा (आईपी) के विभिन्न रूपों के राष्ट्रीय सरकारों द्वारा विनियमन के लिए न्यूनतम मानकों को स्थापित करता है। ट्रिप्स टैरिफ और व्यापार (जीएटीटी) पर सामान्य समझौते के उरुग्वे दौर के अंत में बातचीत की गई थी। TRIPS पर भी एक समझौता है जो 1 जनवरी 1995 से लागू हुआ था।

ट्रिप्स समझौते के उद्देश्य क्या है? (What is the purpose of the TRIPS Agreement)

ट्रिप्स समझौते का उद्देश्य यह है की किसी भी देशो के बिच का विवाद को ख़त्म कर व्यापर को बढ़ाना उनका यह उद्देश्य है। संबंधित देश मै व्यापारिक विवादों को हल करने एवं विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों को अपने घरेलू नीति उद्देश्यों को प्राप्त करने हेतु छूट सुनिश्चित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ट्रिप्स समझौते का यही उद्देश्य है।

ट्रिप्स समझौते के प्रावधान क्या है? (What are the provisions of the TRIPS Agreement)

ट्रिप्स समझौते में सामान्य और सरल प्रावधान एवं मूलभूत सिद्धांत मौजूद है, जैसे कि राष्ट्रीय तथा सर्वाधिक राष्ट्र व्यवहार और उसके साथ ही अधिकारों की समाप्ति सम्मिलित हैं। TRIPS समझौता निम्नलिखित को भी सम्मिलित करता है और देश के लोगो को साथ मै जोड़ता है। कॉपीराइट एवं संबंधित अधिकार ट्रेडमार्क, भूगोलिक, संकेतक, औद्योगिक डिजाइन, पेटेंट, पौधों की नई किस्मों के संरक्षण सहित एकीकृत परिपथों के अभिन्यास-डिजाइन एवं अघोषित जानकारी, जिसमें व्यापार से संबंधित रहस्य एवं परीक्षण डेटा शामिल हैं। जिसे लोग एक दूसरे देश अपना सामान बेच सके जिससे देश के प्रति ट्रेडिंग चलती रहे। इसे ही TRIPS समझौते का प्रावधान कहा जाता है।

ट्रिप्स समझौते में आवश्यकताए (Requirement in TRIPS Agreement)

ट्रिप्स को अपने सदस्य देशों को बौद्धिक संपदा अधिकारों के लिए, मजबूत सुरक्षा प्रदान करने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, ट्रिप्स के तहत कुछ निम्न बिंदु आधारित है जैसे की आप देख सकते है-

  1. जब तक लेखक के जीवन पर आधारित न हो, कॉपीराइट शर्तों को कम से कम 50 वर्ष तक बढ़ाया जाना चाहिए।
  2. कॉपीराइट स्वचालित रूप से प्रदान किया जाना चाहिए और किसी भी “औपचारिकता” पर आधारित नहीं होना चाहिए। जैसे कि पंजीकरण जैसा कि बर्न कन्वेंशन में निर्दिष्ट है।
  3. कॉपीराइट कानून के तहत कंप्यूटर प्रोग्राम को “साहित्यिक कार्यों” के रूप में माना जाना चाहिए और सुरक्षा की समान शर्तें प्राप्त करनी चाहिए।
  4. कॉपीराइट के राष्ट्रीय अपवाद (जैसे संयुक्त राज्य में ” उचित उपयोग “) बर्न थ्री-स्टेप टेस्ट द्वारा विवश हैं आज के समय मै इसका बहुत महत्वपूर्ण है। आज के समय में बिना कंप्यूटर के कोई काम नहीं होता है।
  5. पेटेंट सभी “प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों” में “आविष्कारों” के लिए प्रदान किया जाना चाहिए, बशर्ते वे अन्य सभी पेटेंट योग्यता आवश्यकताओं को पूरा करते हों (हालांकि कुछ सार्वजनिक हितों के अपवादों की अनुमति है (27.2 और 27.3) और कम से कम 20 वर्षों के लिए लागू होने योग्य होना चाहिए। (कला ३३)।
  6. अनन्य अधिकारों के अपवाद सीमित होने चाहिए, बशर्ते कि काम का सामान्य शोषण (अनुच्छेद 13) और पेटेंट का सामान्य शोषण (अनुच्छेद 30) संघर्ष में न होना चाहिए।
  7. कंप्यूटर प्रोग्राम और पेटेंट के अधिकार धारकों के वैध हितों के लिए कोई अनुचित पूर्वाग्रह की अनुमति नहीं है।
  8. पेटेंट अधिकारों (अनुच्छेद 30) द्वारा तीसरे पक्ष के वैध हितों को ध्यान में रखा जाना चाहिए। यह बहुत महत्वपूर्ण है इस पर ध्यान रखना चाहिए।

प्रत्येक राज्य में, बौद्धिक संपदा कानून स्थानीय नागरिकों को कोई लाभ प्रदान नहीं कर सकते हैं जो राष्ट्रीय उपचार के सिद्धांत के तहत अन्य ट्रिप्स हस्ताक्षरकर्ताओं के नागरिकों के लिए उपलब्ध नहीं हैं। कुछ सीमित अपवादों के साथ, ट्रिप्स में बसे पसंदीदा राष्ट्र खंड भी है।

भौगोलिक संकेत (Geographical indication)

भौगोलिक संकेत वस्‍तुओं के भौगोलिक संकेत पंजीकरण और सुरक्षा के अधिनियम साल 1999 में प्रदान कि‍या गया है कि भौगोलिक संकेत का अर्थ है एक ऐसा संकेत, जो वस्‍तुओं की पहचान, जैसे कृषि उत्‍पाद, प्राकृतिक वस्‍तुएं या निर्मित वस्‍तुएं, एक देश के राज्‍य क्षेत्र में उत्‍पन्‍न होने के आधार पर करता है, जहां उक्‍त वस्‍तुओं की दी गई गुणवत्ता, प्रतिष्‍ठा या अन्‍य कोई विशेषताएं इसके भौगोलिक उद्भव में योगदान देती हैं उसे भौगोलिक संकेत कहते है।

मुख्यरूप से दो प्रकार के भौगोलिक संकेत होते हैं (i) पहले प्रकार में वे भौगोलिक नाम हैं जो उत्‍पाद के उद्भव के स्‍थान का नाम बताते हैं जैसे शैम्‍पेन, दार्जीलिंग आदि। (ii) दूसरे हैं गैर-भौगोलिक पारम्‍परिक नाम, जो यह बताते हैं कि एक उत्‍पाद किसी एक क्षेत्र विशेष से संबद्ध है जैसे अल्‍फांसो, बासमती आदि। यह दो प्रकार है जो भौगोलिक संकेत के जैसे की पहले प्रकार मै भौगोलिक और दूसरे प्रकार मै गैर-भौगोलिक होते है।

FAQs (Frequently Asked Questions About TRIPS)

प्रश्न.1- ट्रिप्स का फुल फॉर्म क्या है?

ट्रिप्स का फुल फॉर्म Trade Related Aspects of Intellectual Property Rights है।

प्रश्न.2- ट्रिप्स समझौता क्या है?

बौद्धिक संपदा अधिकार के पहलुओं से संबंधित व्यापार पर समझौते TRIPS एक है। अंतरराष्ट्रीय कानूनी समझौते के सभी सदस्य देशों के बीच विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) है। उसे ट्रिप्स समझौता कहते है।

प्रश्न.3- ट्रिप्स समझौता कब हुआ?

ट्रिप्स समझौता विश्व व्यापार संगठन ट्रिप्स पर 1986-94 के उरुग्वे दौर के दौरान वार्ता हुई थी एवं इसने पहली बार बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली में बौद्धिक संपदा नियमों को प्रारंभ किया है। ट्रिप्स समझौता 1 जनवरी 1995 को प्रवर्तन में आया। इसके बाद ही ट्रिप्स समझौता हुआ।

प्रश्न.4- ट्रिप्स समझौते के उद्देश्य क्या है?

ट्रिप्स समझौते का उद्देश्य यह है की देशो के बिच का विवाद को ख़त्म कर व्यापर को बढ़ाना उनका यह उद्देश्य है।संबंधित देश मै व्यापारिक विवादों को हल करने एवं विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों को अपने घरेलू नीति उद्देश्यों को प्राप्त करना।

आशा कर्ता हूं दोस्तों की आपको अब पता चल गया होगा कि आखिर Trips Full Form होता क्या है और what is Trips agreement? भी समझ आ गया होगा। अगर और कुछ सवाल हो तो नीचे कमेन्ट करके जरूर बताइए और हमसे संपर्क करना चाहते है तो हमसे FACEBOOK पर जूडीये। साथ में हमारी वेबसाइट Biographyindian.in को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे जिससे उनको भी कुछ नया जानने को मिले।

Leave a Comment