रविंद्रनाथ टैगोर जीवनी | Rabindranath tagore biography, Award, death

रवींद्रनाथ टैगोर जिन्होंने भारत के राष्ट्रगान की रचना की और साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार जीता था। हर मायने में एक बहुप्रतिभाशाली व्यक्तित्व थे। वह एक बंगाली कवि, ब्रह्म समाज दार्शनिक, दृश्य कलाकार, नाटककार, उपन्यासकार, चित्रकार और संगीतकार थे। इस लेख में हान क्या देखेंगे? Rabindranath tagore biography

वह एक सांस्कृतिक सुधारक भी थे जिन्होंने बंगाली कला को शास्त्रीय भारतीय रूपों के दायरे में सीमित करने वाली सख्ती को खारिज कर दिया। हालांकि वे एक बहुश्रुत व्यक्ती थे। उनकी साहित्यिक कृतियां ही उन्हें सर्वकालिक महानों की कुलीन सूची में स्थान देने के लिए पर्याप्त हैं।आज भी रवींद्रनाथ टैगोर को अक्सर उनके काव्य गीतों के लिए याद किया जाता है। जो आध्यात्मिक के साथ-साथ मधुर दोनों हैं। वह अपने समय से आगे के उन महान दिमागों में से एक थे और यही कारण है कि अल्बर्ट आइंस्टीन के साथ उनकी मुलाकात को विज्ञान और अध्यात्म के बीच संघर्ष के रूप में माना जाता है।

टैगोर अपनी विचारधाराओं को दुनिया के बाकी हिस्सों में फैलाने के लिए इच्छुक थे और इसलिए उन्होंने जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देशों में व्याख्यान देते हुए एक विश्व भ्रमण शुरू किया। जल्द ही उनके कार्यों की विभिन्न देशों के लोगों ने प्रशंसा की और वे अंतत में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले गैर-यूरोपीय बन गए। जन गण मन जो भारत का राष्ट्रीय गान है इसके अलावा उनकी रचना ‘अमर शोनार बांग्ला’ को बांग्लादेश के राष्ट्रीय गान के रूप में अपनाया गया था और श्रीलंका का राष्ट्रगान उनके एक काम से प्रेरित था।

Table of Contents

General Information (Rabindranath Tagore Biography)

नाम:-रवींद्रनाथ टैगोर
जन्म:-7 में 1861
जन्म स्थान:-कलकत्ता, ब्रिटिश, भारत
माता:-शारदा देवी
पिता:-देबेंद्रनाथ टैगोर
पेशा:-लेखक, गीतकार, नाटककार, निबंधकार, चित्रकार
पत्नी:-मृणालिनी देवी
बच्चे:-रेणुका टैगोर, शमींद्रनाथ टैगोर, मीरा टैगोर, रथिंद्रनाथ टैगोर और मधुरिलता टैगोर
अवार्ड:-साहित्य में नोबेल पुरस्कार (1913)
मृत्यु:-7 अगस्त 1941
मृत्यु स्थान:-कलकत्ता, ब्रिटिश, भारत
Rabindranath Tagore Biography

रवींद्रनाथ टैगोर शुरुआती जीवन और शिक्षा (Rabindranath Tagore Early Life and Education)

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म 07 मई 1861 को कोलकाता में हुआ था। रवींद्रनाथ टैगोर, ब्रह्म समाज के सक्रिय सदस्यों में से एक है। वो एक प्रसिद्ध और प्रसिद्ध दार्शनिक और साक्षर देबेंद्रनाथ टैगोर के पुत्र थे।

बड़े होने के दौरान, रवींद्रनाथ टैगोर ने अपने बड़े भाई और अपनी भाभी के साथ बहुत अंतरंग संबंध साझा किए। रवींद्रनाथ टैगोर के पिता का नाम देबेंद्रनाथ टैगोर और उनकी माता का नाम शारदा देवी है। उनका जन्म तब बंगाल प्रेसीडेंसी के कलकत्ता में हुआ था। ऐसा माना जाता है कि उन्होंने सब कुछ एक साथ किया। रवींद्रनाथ टैगोर की शिक्षा बहुत प्रभावशाली नहीं लगती थी।

रवींद्रनाथ टैगोर स्कूली शिक्षा का आनंद नहीं लेते थे और वे ज्यादातर देर तक सोचते और घंटों सोचते पाए जाते थे। वह सबसे प्रतिष्ठित सेंट जेवियर्स स्कूल में से एक में गए और बाद में वे कानून का अध्ययन करने और बैरिस्टर बनने के लिए इंग्लैंड के ब्रिजटन में लंदन विश्वविद्यालय गए। फिर भी जैसा कि हम जानते हैं। उन्होंने स्कूली शिक्षा का अधिक आनंद नहीं लिया। वह दो साल में घर लौट आया बिना डिग्री प्राप्त किए। भले ही उन्हें स्कूली शिक्षा में ज्यादा मजा नहीं आया लेकिन उनके पास हमेशा किताबे कलम और स्याही होती थी। वह हमेशा अपनी नोटबुक में बातें लिखता रहते थे। हालाँकि वह अपने लेखन को प्रकट करने से कतराते थे।

रवींद्रनाथ टैगोर यात्रा और प्रारंभिक लेखन (Rabindranath Tagore’s Journey and Early Writing)

शेक्सपियर की तरह रवींद्रनाथ टैगोर की स्कूली शिक्षा बहुत कम रही है और उन्होंने अपनी यात्रा, प्रकृति और समाज और मानव जीवन से अधिक सीखा। 11 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद 1873 में अपने उपनयन संस्कार के बाद वे पहली बार शांतिनिकेतन गए और अपने पिता के साथ डलहौजी गए। वहां उन्होंने जीवनी, इतिहास, खगोल विज्ञान, विज्ञान, संस्कृत और कालिदास और अन्य कवियों की कविताएं पढ़ीं।

अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने अमृतसर का दौरा किया। जहां स्वर्ण मंदिर में वे गुरुनानक बानी के गीतों से प्रभावित हुए। बाद में उन्होंने अपनी आत्मकथा माई रिमिनिसेन्सेस (1912) में इन अनुभवों का उल्लेख किया। टैगोर ने अपने लेखन की शुरूआत 15 वर्ष की उम्र में ही कर दी थी। 1875 में उनका पहला प्रकाशन आया जो गद्य और पद्य में था।

18 वर्ष की आयु प्राप्त करने से पूर्व उन्होंने पद्य में लगभग 7000 पंक्तियाँ लिखीं। उनकी पहली लघु कहानी जो मूल रूप से बंगाली में लिखी गई थी बाद में भिखारिणी। इसका अंग्रेजी में अनुवाद “द भिखारी महिला” के रूप में किया गया था। उस समय उन्हें बंगाली वैष्णव गायकों और भारतीय भक्ति कविता से प्रेरणा मिली।

वेद, उपनिषद, पुराण, रामायण और महाभारत जैसे प्राचीन भारतीय ग्रंथ टैगोर के लिए प्रेरणा के स्रोत थे क्योंकि इसका प्रभाव उन पर देखा जा सकता है। गुरु नानक और कबीर जैसे भारतीय संतों ने भी उन्हें प्रभावित किया है।

रवींद्रनाथ टैगोर शादीशुदा जिंदगी (Rabindranath Tagore Married Life)

1880 में रवींद्रनाथ टैगोर बंगाल लौट आए और नियमित रूप से अपनी कविता, उपन्यास और लघु कथाओं को प्रकाशित करते रहे। रवींद्रनाथ टैगोर की शादी 1883 में मृणालिनी देवी से हुई। जो उस समय महज 10 साल की थी। बाद में उनके पांच बच्चे हुए लेकिन उनमें से केवल तीन ही जीवित रह सके।

1891-95 की अवधि को टैगोर के जीवन का साधना काल कहा जाता है। ये वर्ष सबसे अधिक उत्पादक वर्ष हैं क्योंकि उन्होंने “गलपागुच्छा” (84 कहानियाँ) के तीन खंडों की अधिकांश कहानियाँ लिखी हैं। इन कहानियो मे उन्होंने ग्रामीण बंगाल की दयनीय स्थिति और गरीबी को चित्रित किया। साल 1998 में टैगोर शेलैदाहा (जो अब बांग्लादेश का हिस्सा) में पैतृक सम्पदा में अपने परिवार में शामिल हो गए। वहां टैगोर के पास पद्मा नाम की एक नाव थी। जिसे बुडगेरो के नाम से भी जाना जाता है। यह एक आलीशान पारिवारिक बजरा था।

शांतिनिकेतन की स्थापना (Establishment of Shantiniketan)

रवीन्द्रनाथ के पिता ने शांतिनिकेतन में काफी जमीन खरीदी थी। अपने पिता की संपत्ति में एक प्रायोगिक स्कूल स्थापित करने के विचार के साथ उन्होंने 1901 में शांतिनिकेतन में अपना आधार स्थानांतरित कर दिया और वहां एक आश्रम की स्थापना की। यह संगमरमर के फर्श के साथ एक प्रार्थना कक्ष था और इसका नाम ‘मंदिर’ रखा गया था। वहां कक्षाएं पेड़ों के नीचे आयोजित की जाती थीं और शिक्षण की पारंपरिक गुरु-शिष्य पद्धति का पालन करती थीं।

रवीन्द्रनाथ टैगोर को आशा थी कि शिक्षण की इस प्राचीन पद्धति की मरम्मत आधुनिक पद्धति की तुलना में लाभकारी सिद्ध होगा। दुर्भाग्य से उनकी पत्नी और उनके दो बच्चों की शांतिनिकेतन में रहने के दौरान मृत्यु हो गई और इससे रवींद्रनाथ व्याकुल हो गए। इस बीच बंगाली के साथ-साथ विदेशी पाठकों के बीच उनकी रचनाएँ अधिक से अधिक लोकप्रिय होने लगीं। इसने अंत मे उन्हें पूरी दुनिया में पहचान दिलाई और 1913 में रवींद्रनाथ टैगोर को साहित्य में प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। जो एशिया के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता बने थे।

रवींद्रनाथ टैगोर विश्व परिभ्रमण (Rabindranath Tagore World Tour)

रवींद्रनाथ टैगोर विश्व की मान्यता में विश्वास करते थे। इसलिए वे अपनी विचारधाराओं को फैलाने के प्रयास में एक विश्व भ्रमण पर निकल पड़े। वह अपने साथ अपनी अनुवादित कृतियों को भी साथ ले गये। जिसने कई महान कवियों का ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान जैसे देशों में भी भाषण दिया। इसके तुरंत बाद टैगोर ने खुद को मैक्सिको, सिंगापुर और रोम जैसे स्थानों का दौरा करते हुए पाया। जहां उन्होंने आइंस्टीन और मुसोलिनी जैसे राष्ट्रीय नेताओं और महत्वपूर्ण हस्तियों से मुलाकात की।

साल 1927 में उन्होंने एक दक्षिण पूर्व एशियाई दौरे की शुरुआत की और अपने ज्ञान और साहित्यिक कार्यों से कई लोगों को प्रेरित किया। टैगोर ने इस अवसर का उपयोग कई विश्व नेताओं के साथ भारतीयों और अंग्रेजों के बीच के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए भी किया। उनका प्रारंभिक उद्देश्य राष्ट्रवाद को समाप्त करना था। रवींद्रनाथ ने समय के साथ महसूस किया कि राष्ट्रवाद उनकी विचारधारा से अधिक शक्तिशाली था और इसलिए इसके प्रति और अधिक घृणा विकसित हुई। इस सब के अंत तक उन्होंने पाँच महाद्वीपों में फैले तीस से अधिक देशों मे यात्रा कि थी।

रवींद्रनाथ टैगोर के अंतिम वर्ष और मृत्यु (Rabindranath Tagore’s Last Years and Death)

अपने जीवन के अंतिम पांच वर्षों मे वे पुराने दर्द और लंबी बीमारी से पीड़ित थे और 7 अगस्त 1941 को 80 वर्ष की आयु में जोरासांको हवेली के कमरे में उनकी मृत्यु हो गई। जहां वे बड़े हुए थे। डॉ एडवर्ड थॉम्पसन के शब्दों में “न केवल एक आदमी बल्कि एक युग ने आखिरकार इतिहास में अपना रास्ता बना लिया था। उन्होंने अपने आप को एक पूरे युग के रूप में अभिव्यक्त किया था। जिसमें भारत आधुनिक दुनिया में चला गया था”

रवींद्रनाथ टैगोर विरासत (Rabindranath Tagore Heritage)

रवींद्रनाथ टैगोर ने बंगाली साहित्य को देखने के तरीके को बदल दिया था। इसलिए उन्होंने कई लोगों पर एक चिरस्थायी छाप छोड़ी। कई देशों में उनकी कई प्रतिमाओं और मूर्तियों के अलावा कई वार्षिक कार्यक्रम महान लेखक को श्रद्धांजलि देते हैं। कई प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय लेखकों द्वारा कई अनुवादों के लिए धन्यवाद, उनके कई कार्यों को अंतरराष्ट्रीय बनाया गया था। रवींद्रनाथ टैगोर को समर्पित पांच संग्रहालय हैं। इनमें से तीन भारत में स्थित हैं। जबकि बाकी दो बांग्लादेश में स्थित हैं। संग्रहालयों में उनकी प्रसिद्ध रचनाएँ हैं और हर साल लाखों लोग उन्हें देखने आते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

रवींद्रनाथ टैगोर भारत से प्यार करते थे और वे पूरी दुनिया से प्यार करते थे। उन्होंने बंगाल को भारत का एक खूबसूरत हिस्सा और पूरे भारत को दुनिया का एक खूबसूरत हिस्सा माना। के.आर श्रीनिवासन अयंगर के शब्दों में रवींद्रनाथ टैगोर अनिवार्य रूप से एक अंतर्राष्ट्रीयवादी थे। उन्होंने पूरी दुनिया को भारत के दिल की व्याख्या की और भारत के इस दिल में पूरी मानव जाति के लिए केवल प्यार था।

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो आप हमारे Facebook page से भी जुड़ सकते है।

FAQ

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म कब हुआ था?

7 में 1861

रवींद्रनाथ टैगोर को कौनसा पुरूस्कार मिला था?

साहित्य में नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature)

रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु कब हुई थी?

7 अगस्त 1941 को 80 वर्ष की उम्र में

रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु का कारण क्या था?

प्रोस्टेट कैंसर

रवींद्रनाथ टैगोर की पत्नी?

मृणालिनी देवी

1 thought on “रविंद्रनाथ टैगोर जीवनी | Rabindranath tagore biography, Award, death”

  1. You have made some good points there. I looked on the internet for additional information about the issue and found most people will go along with your views on this web site.

    Reply

Leave a Comment